मैं बादलों को छूने ..

folder_openMy Poetry
commentNo Comments

मैं बादलों को छूने
आगे बढ़ती हूँ,
और चलते चलते कहीं
भीड़ में मिल जाती हूँ।
उस भीड़ से बैचैन होकर
सपनों की तलाश में,
उस रास्ते को छोड़ कर
कहीं और चली जाती हूँ।

कुछ गुमनाम सा
सूनसान सा
कहीं मोड़ आता है,
किसी के साथ के इन्तजार में
वहीं रुक जाती हूँ।
उस बेनाम राह पर जाता कोई
दिखता है रात को,
पर वो रुकता नहीं
और न कोई जवाब आता है।
सोचती हूँ आगे अकेले ही चली जाऊँ,
पर फिर एक परछाईं दिखती है,
और दिल घबराता है।

मैं साँसे रोक कर अपनी
मैं पलकें पोंछ कर अपनी
वहीं थम कर, मैं रुक जाती हूँ।
किसी हमराही के आने का
करके कुछ दिन इन्तजार
मैं वापस लौट जाती हूँ,
ख्वाहिशें भूल कर अपनी
मैं भीड़ में मिल जाती हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Fill out this field
Fill out this field
Please enter a valid email address.
You need to agree with the terms to proceed

Menu