मैं हारी, तू जीता l

folder_openMy Poetry
commentNo Comments

तू बांध कर रख
अपने ख्याल खुद में,
कुछ कहने की झिझक
बेझिझक कर ले l
मैं आजाद कर रही हूँ अपने राज,
ले सुन ले आज,
और मुझ पर यकीन कर ले l

तुझे पाना नहीं,
तुझे चाहना है l
मेरे इरादों पर शक
बेशक कर ले l
क्या दिखा दूँ मैं तेरी ख्वाहिशों को आईना ?
प्यार तुझे भी है,
चल तू इन्कार कर ले l

लगा तो लिया है
तूने भी दिल मुझसे,
अपनी गलती का हिसाब
बेहिसाब कर ले l
मोहब्बत छुपाने की कोशिश में, मैं हारी,
तू जीता l
खुद पर नाज कर ले l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Fill out this field
Fill out this field
Please enter a valid email address.
You need to agree with the terms to proceed

Menu